Book Review: Shikasta Saaz(Poetry)-Abbas Iraqi (Rev by Deepak Budki)

SHA-Shikasta-Saaz-Abbas-Iraqi.gif001

SHA-Shikasta-Saaz-Abbas-Iraqi.gif001

SHA-Shikasta-Saaz-Abbas-Iraqi.gif002

SHA-Shikasta-Saaz-Abbas-Iraqi.gif002

SHA-Shikasta-Saaz-Abbas-Iraqi.gif003

SHA-Shikasta-Saaz-Abbas-Iraqi.gif003

SHA-Shikasta-Saaz-Abbas-Iraqi.gif004

SHA-Shikasta-Saaz-Abbas-Iraqi.gif004

SHA-Shikasta-Saaz-Abbas-Iraqi.gif005

SHA-Shikasta-Saaz-Abbas-Iraqi.gif005

SHA-Shikasta-Saaz-Abbas-Iraqi.gif006

SHA-Shikasta-Saaz-Abbas-Iraqi.gif006

SHA-Shikasta-Saaz-Abbas-Iraqi.gif007

SHA-Shikasta-Saaz-Abbas-Iraqi.gif007

The Show Must Go On

VARANASI witnessed three road shows during last three days.
The first one was that of Narendra Modi. To call it a roadshow may be a fallacy. It was an impromptu reaction against the orders of Returning Officer & DM, Varanasi who had denied permission to Prime Ministerial candidate of BJP to hold a rally in Benibagh, Varanasi and canvass for himself in his own constituency on flimsy grounds of Security. Surprisingly roadshows by other candidates were permitted in the same area. It may not be out of place to mention that Narendra Modi has conducted more than 400 rallies throughout length and breadth of the country braving even the blasts by terrorists in Bihar but nowhere was security shown as a concern by local administration. Therefore, the roadshow of BJP was more of a protest against orders of DM, who is alleged to be related to Mulayam Singh Yadav, the CM of UP. BJP has also alleged bias of Election Commision especially the CEC, Mr Sampath for having an ostrich-like approach to wrongdoings of Congress and its ally Samajwadi Party. They wanted the DM to be removed immediately to ensure free and fair elections since it was too late to consider organizing a rally or a roadshow due to time constraint. Hence they were forced to cancel all scheduled programmes in Varanasi. Yet the roadshow of BJP, if you may call it so, was a great success despite the fact that there was no time to plan for such a show and all the inimical forces, politicians and bureaucrats, were working against BJP. The bias of the CEC has been acknowledged by Mr Brahma, one of the Election Commissioners, in his interview to Karan Thapar on CNNIBN. He agreed that for such an institution as EC it is not only important to be impartial but must be perceived by people to be impartial. Yet many questions remain. Complaints against Congress especially against Rahul are not attended to promptly and worst still Rahul is not even cautioned for transgressing the model code of conduct.
The second roadshow was a heavily attended procession organized by Arvind Kejriwal and leaders of AAP who have focused all  their energy on Varanasi to prove a point. They have trounced Sheila Dixit in Delhi and think that they can trounce anyone on this earth by labeling him dishonest and anti-lokpal. Many lies and half-baked facts have been served to the people earlier in Delhi and now in Varanasi. Arvind Kejriwal, who has been camping in Varanasi for last so many days, goes from place to place telling horror stories to gullible rural folk like a story-teller of olden days, informing them how Modi has looted poor in order to help Ambanis and Adanis besides what he did in Delhi during his aborted rule of 49 days and how he plans to turn India into a Utopia. During roadshow he was accompanied by most of the AAP leaders and celebrities who have allegiance to the party. The roadshow was a success given the resources available to them. However, AAP leaders tried their usual antics to get attention from media but failed. An incident of assault on AAP candidate, Gul Panag, is quoted as an example.
Kejriwal has left no stone unturned to go to Hindu and Muslim demi-gods to seek their blessings results of which are yet to be seen. However, it is believed that Muslims find him as an alternative since they have been continuously indoctrinated by their Ulemas against BJP. They do not have any faith on Congress in view of  experiences of  past. While they blame BJP for the Babri Masjid demolition, they also do not forget the role of Congress which ruled the Centre and took no steps to prevent such demolition. As far as BJP is concerned, they are not concerned about their vote since they believe that Muslim community will never come under their fold. However this fact is not given expression openly for fear of constitutional constraints. Notwithstanding the foregoing, the biggest challenge for BJP comes from Caste-ridden Hindu society which Modi has been trying to thwart. He has been able to make inroads into SC and OBC despite Mayawati and Mulayam Singh cryng foul. How much fruit his efforts will bear will be known on May 16. Playing caste-card at the fag end of the election campaign may pay its own dividends.

The third roadshow was that of Rahul Gandhi today. It has to be acknowledged that the show was the biggest of the three and the organizers had put in a herculean effort. Ghulam Nabi Azad and Cine Star Nagma were there to woo Muslims of Varanasi and locals had responded well. Raj Babar and other Congress leaders were also seen. They claimed that while opponents had collected people from outside, their crowd was totally indigenous. Has to be taken with a pinch of salt. But then if numbers matter they had a large number following Rahul Gandhi which they thought was a befitting reply to Narendra Modi for his recent rally on the last day in Amethi. It has to be seen whether these numbers convert into votes on 12 May. It is also felt that in a way Congress also wants to show Kejriwal who is the boss. If as per local opinion poll it is granted that Modi gets the first place, Congress has made all efforts to ensure Ajay Rai gets second place which will be a reminder to Kejriwal that it was circumstances not his charisma that led to his win against Sheila Dixit in Delhi.

And last of all the game is obviously tilted in favour of BJP. Now that Congress and AAP are both seriously in the fray it is likely that so called secular vote which includes Muslims also will get divided among the two which may benefit BJP who are watching the development with keen eye. Modi, being a shrewd politician ably assisted by Amit Shah, an intelligent strategist and with active support of RSS will leave no stone unturned to ensure success at the hustings. So let us wait for 16 May 2014 to know who is the King!

Chinar Ke Panje : Deepak Budki (Review by Shri Govardhan Yadav

पुस्तक समीक्षा – चिनार के पंजे

clip_image002 clip_image004 clip_image006

चिनार के पंजे. (कहानीकार =श्री दीपक बुदकी )

चिनार का नाम लेते ही जम्मु-कश्मीर की हसीन वादियों का दृष्य आखॊं के सामने थिरकने लगता है. ऊँची-नीची पहाडियाँ, पहाडियों के बीच इठलाती-बलखाती बहती झेलम, डल झील, डल झील में तैरती नौकाएँ-सैलानी, देवदार तथा चिनार के छतनार पेड, गुलमर्ग, सोनमर्ग,पहलगाम, सोनमर्ग, पत्निटाप, और अमरनाथ और भी न जाने कितने ही सुहावने मंजरों की याद ताजा हो आती है. कश्मीर के स्वादिष्ट अखरोट की याद आते ही मुँह में रसप्लावित होने लगता है. फ़िर पश्मिना-शाल शरीर को गर्माने लगती है. क्या नहीं है इस जन्नत सी वादियों में ? धरती पर यदि कहीं स्वर्ग है तो यहीं पर है-यहीं पर है. दुर्भाग्यशाली हैं वे लोग जो इस धरती पर पसरे स्वर्ग के दर्शनलाभ नहीं उठा पाए.TCH2

कहते हैं कि कश्यप ॠषि के नाम पर “कश्मीर” का नाम संस्करण हुआ. प्रख्यात कवि राजतरंगिनी ( 1148-1150 ई) में इस बात को उल्लेखित किया है. इसी धरती पर उगा एक छतनार पेड है, जो अपनी शीतल छाँव और सुगन्धित फ़ूलों के लिए हर घर की शान और पहचान बना हुआ है, जिसका नाम “चिनार’ है, इसका वैज्ञानिक नाम पापुलस (POPULUS) है, आज संकट के दौर से गुजर रहा है. आतंकवादियों से निपटने के लिए इस पेड की अंधाधुंद कटाई की जा रही है. सन 1989 से अब तक तीस हजार पेड बेरहमी से काट डाले गए. करीब बारह हजार से ज्यादा पेड सूख गए. देखते ही देखते सारा दृष्य बदल गया और आज स्वर्ग सी इस वसुन्धरा की वादियों में बारुद की गंध भर चुकी है और इसकी धरती गोलियों की गडगडाहट से जब तब कांप-कांप उठती है.

इसी कश्मीर की हसीन वादियों में जन्में श्री दीपक बुदकी (आई.पी.एस.) सेवानिवृत्त, मेम्बर पोस्टल सर्विसिज बोर्ड, नई दिल्ली ) का कहानी संग्रह “चिनार के पंजे “सन 2005 में उर्दू में प्रकाशित हुआ जिसे चन्द्रमुखी प्रकाशन, नई दिल्ली ने सन 2011 में हिन्दी में प्रकाशित किया. आपके अब तक “अधूरे चेहरे” उर्दू तथा हिन्दी में क्रमशः 1999 तथा 2005, चिनार के पंजे( 2005-2011) , जेबरा क्रासिंग पर खडा आदमी (2007), उर्दू आलोचना “असरी तहरीरें(2006) तथा असरी श’अर (2008) में प्रकाशित हुए . आपने कश्मीर समस्या का उद्भव एवं अनुच्छॆद 370-एन.डी.सी. को प्रस्तुत किया गया शोध-प्रबन्ध प्रकाशित हो चुका है. आपको अनेकानेक संस्थाओं ने सम्मानीत-पुरस्कृत किया है.

आपका एक कहानी संग्रह “अधूरे चेहरे” बाबद समीक्षा आलेख लिखने के लिए मुझे. श्री कृष्णकुमार यादवजी, तत्कालीन डायरेक्टर पोस्टल सर्विसेस कानपुर के सौजन्य से यह प्राप्त हुआ. इसी क्रम में आपका दूसरा कहानी संग्रह “चिनार के पंजे” भी मुझे श्री कृष्णकुमार यादवजी के मार्फ़त ही प्राप्त हुआ, जो वर्तमान में अलाहबाद में पदस्थ हैं. चिनार के पंजे में उन्नीस कहानियाँ हैं, जिसमें कश्मीर के वर्तमान हालातों पर लिखी गईं कहानियाँ – मुखबिर, एक निहत्थे मकान का रेप, चिनार के पंजे, व्यूग, सफ़ेद क्रास, टक शाप, वफ़ादार कुत्ता तथा विभिन्न परिवेशों पर लिखी गई अन्य कहानियों का अनूठा संग्रह है.

अम्मा कहानी एक बेबस-बेसहारा महिला के इर्दगिर्द घूमती कहानी है जो अपने उदर-पोषण के लिए शराब बेचती है.. मुखबिर कहानी में एक ऎसे दंपत्ति “नीलकण्ठ और अरुंधती ”की करुण दास्तां है, जिसका लडका वीरु अमेरिका में बस गया है. वह अपने माता-पिता से बार-बार आग्रह करता है कि वे उसके पास आ जाए. लेकिन मातृभूमि के प्रेम के मोहपाश में जकडॆ युगल जाने का मन नहीं बना पाते. आतंकवादियों ने उनके मकान को चिन्हित कर दिया है ताकि उनका सफ़ाया किया जा सके. निशान देखकर अरणी घबरा उठती है और आशंका-कुशंका के चलते घास के तिनके तो तोडकर और उस पर थूककर फ़डकती आँख पर चिपका लेती है. लेखक ने यहाँ एक टोटके को प्रयुक्त किया है जो अक्सर. अनिष्ट को टालने के लिए सामान्यतया कई जगह प्रयोग में लाया जाता है. आखिरकार यह केवल मन को समझाने का आसान तरीका भर होता है. आखिर वही होता है जिसकी आशंका मन को मथे डाल रही थी. एक रात आतंकियों ने उन दोनो को भून डाला. कहानीकार ने इस युगल को पहले ही मृत घोषित कर दिया. मेरे मतानुसार उनके जिंदा रहते हुए आतंकी उन्हें घेरते और फ़िर फ़ायरिंग करते, इस दृश्य़ को और पुरजोर तरीके से लिखा जा सकता था. खैर. अखबारों में खबर प्रकाशित होती है-“हब्बाकदल में मुजाहिदियों ने नीलकण्ठ और अरुंधति नाम के दो मुखबीरों को हलाक कर दिया. उन पर संदेह था कि वे फ़ौज की गुप्तचर एजेंसी के लिए काम कर रहे थे” कहानी कमजोरी के बावजूद भी असरकारक बनी है. मोची पिपला” कहानी में खैरातीलाल चमढेवाली की कहानी है, जो गरीबी से ऊपर उठते हुए अमीर फ़िर एक प्रभावशाली नेता बन जाता है. उसकी लडकी पारो उर्फ़ पार्वती अपने सजातीय लडके से प्यार करती है. शादी भी तय होजाती है, लेकिन नेता बने खैरातीलाल को उस लडके से नफ़रत हो जाती है और वह कई जुल्म ढाता हुआ उसके घर को आग के हवाले कर देता है. ”एक निहत्थे मकान का रेप” में आतंकियों के डर से मकानमालिक घर के कुंदे में ताला डालकर भाग निकलता है. देखते ही देखते आसपास-पडौस के लोग खिडकी, दरवाजे निकाल कर ले जाते है. बाद में उसमें आग लगा दी जाती है. ताला वहीं जमीन में दब जाता है. क्रिकेट खेलते बच्चे जब अपना स्टंप गाडने की कोशिश करते हैं, तो वह धंस नहीं पाता. हल्की खुदाई के बाद सोने जैसी चमक दीखती है. अतं में पता चलता है कि वह चमकदार वस्तु ताला है. इस कहानी में कश्मीरी शब्द “अडस” को प्रयोग में लाया है, जिसका अर्थ बराबर का हिस्सेदार होना बतलाया गया है. मांगे का उजाला” एक मिलिट्री आफ़िसर की पत्नि को अस्पताल में बच्चा पैदा होता है. बच्चा बदलने की घटना घटती है. अस्पताल में कार्यरत नर्स मीनाक्षी उस अफ़सर के प्रति आसक्त होती है, उस नर्स की शादी तय हो जाती है, बावजूद इसके वह उस अफ़सर से अपने लिए एक बच्चा चाहती है. अपने प्रयास में वह सफ़ल होती है और बच्चे को अपनी माँ को सौंपकर विदेश अपने पति के पास चली जाती है. चिनार के पंजे” कहानी में चिनार के पत्ते के माध्यम से कहानीकार ने कश्मीर के परिवेश को, उसके दर्द को, उसकी पीडा को अभिव्यक्ति दी है. “उम्मीद जिन्दगी की अफ़ीम है”,” जो एक बार अपनी मिट्टी से उखड जाता है, दुबारा जड नहीं पकडता. मुसिबतों को सहने के लिए साहस ही पर्याप्त नहीं होता, शक्ति और साधन भी तो होने चाहिए”, “आशाएं जिन्दा है, वे भी जिन्दा रहने के लिए नए-नए रस्ते ढूंढ लेंगे”, “फ़िर रह जाते हैं फ़ासिल, जो जीवाश्म और पुरावशेष……..नस्लों को घसीटते हुए चले जा रहे हैं”, “आखिर कब तक हम यूं ही अपने आप से डरते, भागते और छिपते फ़िरेंगे?” जैसे शब्दावलियाँ इस कहानी को जीवन्त और धारदार बनाती है. कहानी व्यूग- व्यूग एक कश्मीरी शब्द है, जिसका अर्थ है “रंगोली” बेलबुटे के लिए “क्रूल ”शब्द है जिसका प्रयोग कहानीकार ने किया है. यह सराहनीय प्रयोग है. इससे नए शब्दों से परिचय होता है और पाठक की शब्द संपदा बढती है. “प्रेम में कायरों के लिए कोई स्थान नहीं होता, मगर हम दोनो ही डरपोक थे” ,ईश्वर ने मूसा को कोहेतूर पर अपने दर्शन दिए थे”,जैसे वाक्य इस कहानी को धार देते लगते हैं. कहानी सफ़ेद क्रास, टकशाप, वफ़ादार कुत्ता कहानियाँ कश्मीर की व्यथा-कथा, आतंकियों से दहशत पर लिखी गईं मार्मिक कहानियाँ हैं. कहानी मूक-अमूक, प्रतिवाद और आओ कुछ और लिखें भी अच्छी कहानियाँ बन पडी हैं.

कहानीकार ने अपनी कहानियों के माध्यम से कश्मीर के लोगों की रोजमर्रा की कशमकश, उसमें बिंधी इच्छाएँ, शंकाएँ-कुशंकाएँ, विस्मृतियाँ, विडम्बनाएँ, आतंक, दमन, उत्पीडन, भूख और मृत्यु के बीच जीवन जीने की लालसाओं को गुंफ़ित किया है, और अप्रत्यक्षरुप से यह प्रश्न उठाया है कि जो कुछ भी हमारे चारों ओर निर्लज्जतापूर्वक जो नंगा नाच हो रहा है, क्या उसकी कोई सीमा भी है अथवा नहीं, या यह निरन्तर चलता ही रहेगा? इन मार्मिक दृष्यों से गुजरते हुए मुझे नागार्जुनजी याद आते हैं. इन्ही वेदनाओं से आक्रान्त होकर शायद उन्होंने लिखा था;-

एक- एक पग बिंधा हुआ है दिशा शूल से, डर लगता है बलिवेदी के लाल फ़ूल से* क्रियाहीन चिन्तन का यह कैसा चमत्कार है, दस प्रतिशत आलोक और बस अन्धकार है..

कहानी संग्रह “चिनार के पंजे” की सारी कहानियाँ, कहानीकार के आत्म का पारदर्शी प्रतिरुप है. छल-छद्म और दिखावेपन के बुनावटॊं से दूर, लाभ-लोभ वाली आज की खुदगर्ज दुनियाँ में एक सरल-सहज-निर्मल प्रस्तुति के लिए हार्दिक शुभकामनाएँ-बधाइयाँ, इस आशा के साथ कि आने वाले समय में उनके नए संग्रह से परिचित होने का सुअवसर प्राप्त होगा.

 

प्रस्तुति -

गोवर्धन यादव

103, कावेरीनगर,छिन्दवाडा(म.प्र.) 480001

(सेवानिवृत्त पोस्ट्मास्टर(H.S.G.1)

संयोजक राष्ट्रभाषा प्रचार समिति

आगे पढ़ें: रचनाकार: पुस्तक समीक्षा – चिनार के पंजे http://www.rachanakar.org/2014/04/blog-post_17.html#ixzz2zGDVdrKy

 

 

Allama Shibli Ke Naam Ahle-ilm ke Khatoot: Dr Ilyas Azmi (Rev by Deepak Budki)

Allama-Shibli-ke-Naam-Ahle-Ilm-ke-KhatootDr-Ilyas-Azmi.gif001

Allama-Shibli-ke-Naam-Ahle-Ilm-ke-KhatootDr-Ilyas-Azmi.gif001

Allama-Shibli-ke-Naam-Ahle-Ilm-ke-KhatootDr-Ilyas-Azmi.gif002

Allama-Shibli-ke-Naam-Ahle-Ilm-ke-KhatootDr-Ilyas-Azmi.gif002

Allama-Shibli-ke-Naam-Ahle-Ilm-ke-KhatootDr-Ilyas-Azmi.gif003

Allama-Shibli-ke-Naam-Ahle-Ilm-ke-KhatootDr-Ilyas-Azmi.gif003

Allama-Shibli-ke-Naam-Ahle-Ilm-ke-KhatootDr-Ilyas-Azmi.gif004

Allama-Shibli-ke-Naam-Ahle-Ilm-ke-KhatootDr-Ilyas-Azmi.gif004