Vote – #Ministory #Urdu #Hindi

                                                                       वोट 
प्रगति विहार हॉस्टल की बालकोनी से मैं नीचे मैदान की चहल पहल देख रहा था .इतने में एक व्यक्ति सामने सडक पर खड़ा होकर मुझ से मुखातिब हुआ .” भाई साहब आप ने अभी तक अपना वोट नहीं डाला, चार बज चुके हैं .”

मैंने माज़रत पेश करते हुए कहा, ” मैंने कश्मीर के चुनाओं में अपनी आँखों से धांधलियां  होते देखा है जिसे  मेरे विश्वास को आघात पहुंचा है. इस लिए अब मैं वोट नहीं डालता.”

“आप इतने बढ़े अफसर होकर भी ऐसी बातें करते हैं. वोट ढालना तो हमारा कर्तव्य बनता है. अगर हम जैसे शाईस्ता लोग ही अपने कर्तव्य से मुकर जाएँ तो देश का क्या होगा? मेरी बात मानिये और वोट डाल कर आईये.”

“मैंने देखा है की मेरे वोट की  कोई कीमत ही नहीं है. सियासतदान सरेआम वोट खरीदते हैं, खुले आम सौदे बाज़ी करते हैं , फिर मेरे ज़मीर की क्या वुक्कत रह जाती है. मैं अपनी एनेर्जी फालतू में ज़ाय्या नहीं करना चाहता.”

छे बजे वोटिंग ख़त्म हो गयी. मैं बालकोनी में बादस्तूर  खड़ा तमाशा देख रहा था .वही व्यक्ति नीचे सड़क पर फिर  दिखाई दिया. उस ने वहीँ से चिल्लाया ,”भाई साहब हम अभी तक आप का इंतज़ार कर रहे थे .आप आये  नहीं इस लिए  हम ने आप का वोट डलवा दिया.”

मैंने कोई जवाब नहीं दिया , केवल मुस्कराता रहा  . मुझे समझ नहीं आ रहा था की जीत किस की हुई ?

2 thoughts on “Vote – #Ministory #Urdu #Hindi

  1. In a shortest story we reflect our experience and deliver our thought to the readers in a easy way as we experience in this fiction.It’s expression is the actually expression of your real thoughts.

    • arshad neyaz Thanks for the comments and sorry for the delay in response. U r rt. However experiences are always prejudiced due to the subjective element and as far as imagery is concerned it can be realistic or unrealistic. Even Thoughts are coloured due to the family background, called Sanskara in Sanskrit, education you receive, the companyu of people you keep and your own genetic make up. Any way till the reader is able to appreciate the viewpoint of an author and enjoy the story I think the job is done.

Leave a Reply